College Disha
/

ग्रेजुएशन (स्नातक) के बाद करियर विकल्प (Career Options After Graduation)

Update on 03 Oct, 22

5 minutes read

ग्रेजुएशन (स्नातक) के बाद करियर विकल्प (Career Options After Graduation)

ग्रेजुएशन के बाद जब अपने लिए एक अच्छा करियर चुनना हो तो किसी भी छात्र के लिए कंफ्यूज हो जाना बहुत स्वाभाविक सी बात है. आजकल के स्टूडेंट्स ढेरों करियर ऑप्शन्स में से अपने लिए एक उपयुक्त करियर चुन सकते हैं और यही वह कारण है कि उन्हें अपने लिए एक उपयुक्त करियर चुनने में कोई परेशानी नहीं होती यह वह समय होता है जब वे अपने पैशन और स्किल सेट्स में तालमेल कायम करने के लिए संघर्ष करते है।

फिर भी, महत्वपूर्ण प्रश्न यही रहता है:ग्रेजुएशन के बाद मुझे क्या करना चाहिए?” चिंता न करें! हमें फ़ॉलो करें और हम आपको उपयुक्त गाइडेंस और ऐसी सहायता प्रदान करेंगे जो आपके लिए पूर्ण रूप से सहायक होगा.

विज्ञान में स्नातक के बाद कोर्सेज


Post Graduate Diploma in Management (PGDM): 

पीजीडीएम एक स्नातकोत्तर डिप्लोमा का विस्तार करता है, स्नातकोत्तर कोर्सेज को पीजीडीएम के रूप में नामित किया गया है, इसका मुख्य कारण यह है कि जब एक संस्थान एक स्वायत्त निकाय है (जिसका अर्थ यह किसी भी विश्वविद्यालय से संबद्ध नहीं है) और प्रबंधन पाठ्यक्रम आयोजित करता है तो ऐसे संस्थान एमबीए की डिग्री प्रदान नहीं कर सकते। यहां तक कि आईआईएम, एक्सएलआरआई एमबीए की डिग्री प्रदान नहीं करते हैं क्योंकि वे केवल पीजीपी डिप्लोमा या पीजीडीएम देते हैं क्योंकि वे स्वायत्त और स्वतंत्र निकाय हैं।

Post Graduate Program in Management (PGPM):

पोस्ट ग्रैजुएट प्रोग्राम इन मैनेजमेंट (पीजीपीएम) एक डिग्री नहीं बल्कि एक विशिष्ट प्रमाणपत्र में स्नातकोत्तर कोर्स में सफलतापूर्वक पूरा करने के लिए सम्मानित किया गया प्रमाण पत्र है।

Master of Business Administration (MBA):

एमबीए 2 साल का कोर्स है, यह व्यवसाय के सैद्धांतिक पहलुओं के साथ एक सेमेस्टर आधारित कोर्स (ज्यादातर 4 सेमेस्टर) का होता है। एमबीए-जनरल और विशेषीकृत दो प्रकार के हैं, और कॉमर्स, इकोनॉमिक्स, मैनेजमेंट आदि सहित विभिन्न विषयों को कवर किया जाता है।

Master of Computer Applications (MCA):

एमसीए एक पीजी डिग्री कोर्स है और एमसीए कोर्स की अवधि 3 साल होती है। जो उम्मीदवार S/W क्षेत्र में कैरियर बनाना चाहते हैं, वे स्नातक होने के बाद इस कोर्स को कर सकते हैं। यह पाठ्यक्रम सॉफ्टवेयर कंपनियों में उज्ज्वल छात्रों के लिए और उच्च सैलरी के साथ बहुराष्ट्रीय कंपनियों में भी कई नौकरी के अवसर प्रदान करता है और सॉफ्टवेयर इंजीनियर की वृद्धि किसी भी अन्य समान क्षेत्रों में वृद्धि को आगे बढ़ा सकती है।

Master in Science (MSc):

विज्ञान में स्नातक होने के बाद, कोई भी जैव चिकित्सा विज्ञान, भौतिक विज्ञान, खगोल विज्ञान आदि में जा सकता है। इसी प्रकार रसायन शास्त्र, दवा रसायन, पेट्रोलियम प्रौद्योगिकी आदि विषयों में से एक के रूप में रसायन शास्त्र के साथ वे जीव विज्ञान स्ट्रीम के साथ पोषण, आहार, खाद्य विज्ञान के लिए जा सकते हैं। इसके अलावा कोई भी लागू रसायन विज्ञान, गणित, भौतिकी आदि का विकल्प चुन सकता है।

कॉमर्स में स्नातक के बाद के कोर्सेज


चार्टर्ड एकाउंटेंसी (सीए /CA):

चार्टर्ड एकाउंटेंसी यानि सीए एक कोर्स है जिसके ज़रिए वाणिज्य छात्र चार्टर्ड एकाउंटेंट बनने के लिए आगे बढ़ सकते हैं। भारत में इस कोर्स को लेकर छात्रों में सबसे ज्यादा उत्सुकता देखी जा सकती है। किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड या विश्वविद्यालय से कुल मिलाकर कम से कम 50 फीसदी अंकों से 12वीं पास होनी ज़रूरी है।

कंपनी सचिव (सीएस/CAS):

कंपनी सचिव या सीएस भी छात्रों में सीए के बाद सबसे लोकप्रिय कोर्स है। जिसे 12वीं में 50 फीसदी अंक हासिल करने के बाद किया जा सकता है। इस कोर्स को करने के बाद नौकरी की अपार संभावनाएं खुल जाती है । और इस कोर्स के बाद छात्र कंपनी सचिव बनने की योग्यता प्राप्त कर लेता है।

बीकॉम इन अकाउंटिंग एंड कॉमर्स::

बैचलर ऑफ कॉमर्स यानि बीकॉम एक डिग्री कोर्स है जिसे हर कॉलेज अपने पाठ्यक्रम में शामिल ज़रूर करता है। इस पाठ्यक्रम की अवधि भारतीय कॉलेजों और विश्वविद्यालयों में 3 साल की होती है। जिसे किसी भी यूनिवर्सिटी या अन्य शिक्षण संस्थान से किया जा सकता है।

आर्ट्स में ग्रेजुएशन के बाद करियर विकल्प:

आर्ट्‍स में ग्रेजुएशन कर शिक्षा के क्षेत्र में नाम कमाया जा सकता है। प्रशासनिक सेवाओं में सफलता प्राप्त करने के लिए भी आर्ट्‍स सब्जेक्ट लिया जा सकता है। बैचलर ऑफ आर्ट्‍स के बाद अंग्रेजी साहित्य, दर्शन शास्त्र, भूगोल, अर्थशास्त्र, समाज शास्त्र, राजनीति विज्ञान, मनोविज्ञान आदि के साथ बेहतर करियर बनाया जा सकता है। बहुत से सरकारी विभागों में इनसे जुड़े पदों पर अच्‍छी नौकरी मिलती है। किसी अच्छे कॉलेज से आर्ट्‍स की बैचलर डिग्री कर करियर के अवसर बढ़ने लगते हैं। बीए करने के बाद एमए साइकोलॉजी कर साइकोलॉजिस्ट बना जा सकता है। आजकल बड़ी-बड़ी कंपनियों में भी कर्मचारियों के लिए साइकोलॉजिस्ट रखे जाते हैं।

फाइन आर्ट्स जैसी क्रिएटिव फील्ड को अपना लक्ष्य समझने वाले अपने करियर का निर्माण एक अच्छी तरह से कर सकते हैं. यह एक बेहतर क्षेत्र होगा आपके स्वर्णिम भविष्य के लिए की चाहत रखने वाले युवा इस क्षेत्र में करियर बना सकते हैं। अपनी कला को करियर का रूप दे सकते हैं। पेंटिंग या स्कल्पचर्स में रुचि रखने वाले युवा इस क्षेत्र में करियर बना सकते हैं। बैचलर इन फाइन आर्ट्‍स चार साल का होता है और मास्टर इन फाइन आर्ट्‍स दो साल का होता है। आर्ट्‍स विषय से शिक्षा के क्षेत्र में भी करियर बनाया जा सकता है। प्रोफेसर के तौर पर करियर बनाया जा सकता है। हमारे यहां भौतिक पुरातत्व की धरोहरों आदि को सुरक्षित रखने लिए अच्छे ऑर्कोलॉजिस्ट की देश में मांग है। ऑर्कोलॉजी के कोर्स भी कई अच्‍छी यूनिवर्सिटीज करवाती हैं। एम इन ऑर्कोलॉजी भी करियर का अच्छा विकल्प हो सकता है। इकोनॉमिक्स (अर्थशास्त्र) में भी करियर बनाया जा सकता है। भारत में बढ़ते निवेश के कारण वित्तीय क्षेत्र भी बढ़ रहा है। इन क्षेत्रों में अर्थशास्‍त्रियों की अच्छी मांग है। इस क्षेत्र में भी करियर की असीम संभावनाएं हैं। सिविल सर्विसेस, जर्नलिज्म आदि क्षेत्रों में भी आर्ट्‍स के विषय की पढ़ाई कर जाया जा सकता है। फॉरेन लैंग्वेज का अगर कोर्स कर लिया जाए हमारे तेजी से फलफूल रहे ट्रेवल एंड टूरिज्म विभाग में भी रोजगार की संभावनाएं होती हैं। अगर युवा हिन्दी-अंग्रेजी पर अच्‍छी पकड़ रखते हैं तो अनुवादक (ट्रांसलेटर्स) के रूप में करियर बनाया जा सकता है। आर्ट्‍स विषय के युवा में लाइब्रेरी या इंर्फोमेशन साइंस के कोर्सेस भी कर सकते है।  

इस सप्ताह के प्रासंगिक खोज लेख
Can I do MBA with 40 marks in graduation?
Difference Between Graduation and Postgraduation Course
What Should I Do After Graduation?
What is Genetic Engineering?
एरोनॉटिकल इंजीनियरिंग में करियर
कक्षा 10वीं के बाद करियर विकल्प

 

Plan Your Career With Our Experts.

Plan Your Career With Our Experts.

Need help?

Copyright @2021.www.collegedisha.com. All rights reserved